समर्थक

बनारसी साड़ियाँ खरींदे केवल यहाँ पर ~

रविवार, 5 अगस्त 2012

गौरेया को बचाओ !

                                     
ये जो पक्षी  है जिसका चित्र आप इस ब्लॉग में देख रहे है! इसका नाम  गौरेया(SPARROW) है! वर्तमान समय में इसकी स्थिति ये हो गयीं है की ये पक्षी अब शहरो  से बिलकुल ही गायब हो चूका है और  अब गौरेया  केवल गावो में ही दिखाई देती है! लेकिन ये सच नहीं है गौरेया शहरो से बिलकुल गायब  नहीं हुई  है ये अभी भी यहाँ पर दिखाई दे जाती है!आय दिन ये किसी की छतो पर , बिजली की तारो पर और कभी-कभी घास के मैदानों पर भी  दिख जाती है! इसे बचाने के लिए भारत सरकार को आगे आना चाहिए जैसे वो बाघों(Tigers) और शेरो(Lions) को बचाने के लिए आगे आयी  है, भारत सरकार न सही राज्य सरकारों को तो गौरेया बचाने के लिए तो आगे आना ही चाहिए!!! आप सब ये ना  सोचे की सरकार ही केवल इनका संरक्षण करके इन्हें बचा सकती है हम लोग यानि आम लोग भी इनको बचाने में सहायता कर सकते है पर कैसे?  सबसे पहले आप अपनी छत या छज्जे पर एक अच्छी-सी  साफ-सुथरी जगह ढूंढे ऐसी जगह खुली ही होगी ऐसा मेरा मानना है  और वहां पर छाव हुई तो वो तो सोने पर सुहागा-होगी क्योंकी इन्हें छावदार जगह पसंद है! फिर आप वहां पर एक मध्यम आकार के दीये में चावल के छोटे-छोटे दाने करके रख दे ( ध्यान रहे चावल के दाने बड़े ना हूँ) और उसके बाद एक मिटटी के बर्तन में इनके पीने  योग्य पानी   रख दे! बस इतना करने से ही हम लोग इनकी बहुत मदद कर सकते है!मेरी बात सुनने के लिए धन्यवाद!

4 टिप्‍पणियां:

  1. गाँवोँ मेँ भी अब लुप्त हो रही है गौरेया।
    पक्के मकान बन गये गौरेया को घोँसला बनाने की जगह नहीँ बची।

    www.yuvaam.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरे विचार से अधिकतर पक्के मकान बन जाने के कारण गौरैयाओं को घोसला बनाने की जगह नहीँ मिलती l मैने अपने घर के बाहर लकड़ी के bird house बनाकर लगाये हैं और आशानुरूप उनमे गौरैयाओं ने घोसले बनाये हैं l

    उत्तर देंहटाएं
  3. kal dosto ke sath bait kr purani bate kr rha tha ki aj ki duniya me kya kya badal gya ,tb achanak dhayan aaya ki ab goraiya to dikhti hi ni h ,bahut chinta ki bat h ki pyari si chiriya ab vilupti ki kgar pr h ..pr aj se hi main uske liya kuch krna chahta hu ,or is jankari ke liye HARSHVARDHAN ji ka sukriya

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणी के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद।
गौरेया के लेख पसंद आने पर कृपया गौरेया के समर्थक (Follower) बने। धन्यवाद।

लोकप्रिय लेख